जानिए आपके आधार पर कितनी फर्जी सिम चल रही है || How to Check SIM card on my Adhar card in Hindi - TAFCOP

नए नए ऑफर्स से कई लोग हर बार अलग अलग सिम कार्ड खरीद लेते है कभी अलग अलग स्थानों पर नेटवर्क की समस्या के कारण नए सिम कार्ड लेने की जरुरत होती है।  लेकिन हमें यह पता नहीं होता की हमारे आधार कार्ड पर कितने सिम चल रहे है।  आज हम आपको बताएँगे की आप अपने आधार कार्ड से उन सभी सिम कार्ड को बंद करा सकते है जिनका आप उपयोग नहीं करते या जिन्हे आपकी जानकारी के अतिरिक्त कोई अन्य उपयोग कर रहा है।

How to Check SIM card on my Adhar card


सिम कार्ड के बारे में जानकारी 

सिम कार्ड की फुल फॉर्म subscriber identity module (SIM) है । आज दुनिया में करोड़ों सिम कार्ड एक्टिव हैं। सबसे पहले सिम कार्ड का आविष्कार एक जर्मन कंपनी जिसेक एंड डेविएंट (Giesecke & Devrient) ने 1991 में किया था। दुनिया का पहला सिम कार्ड ATM कार्ड के बराबर था जैसे जैसे टेक्नालजी बड़ती गयी वैसे वैसे सिम कार्ड छोटा होता गया ।


9 नवंबर 1992 को, नोकिया ने दुनिया का पहला व्यावसायिक जीएसएम डिजिटल मोबाइल फोन – नोकिया 1011 बाज़ार में पेश किया  तथा 1993  में पहली बार SMS Message भेजा गया ।  2012 में पहली बार नैनो सिम कार्ड पेश किया गया तथा 2013 में पहला eSIM लॉंच किया गया।


सिम कार्ड कौन से कटा हुआ क्यों होता है ?

पहले सिम कार्ड नहीं हुआ करता था बल्कि मोबाइल में ही सिम कार्ड फिक्स हुआ करता था धीरे धीरे टेक्नोलॉजी बदलती गई बाजार में नई हेंडसेट बनाने वाली कंपनी आने लगी जिससे सिम निकलने की जरुरत महसूस होने लगी।  सिमकार्ड निकालने में समस्या होती थी इसलिए कंपनियों से सिम कार्ड के एक कौन को काट दिया ठीक वैसा ही स्लॉट मोबाइल फ़ोन में बना दिया जिससे इस समस्या का समाधान हुआ और आज भी सिम एक कौन से कटे हुए आते है । 


भारत में पहली बार मोबाइल का उपयोग और मोबाइल नेटवर्क का विकाश कैसे हुआ ?

31 जुलाई, 1995 में ही पश्चिम बंगाल के तत्कालीन मुख्यमंत्री ज्योति बसु ने पहली मोबाइल कॉल कर तत्कालीन केंद्रीय दूरसंचार मंत्री सुखराम से बात की थी।  ज्योति बसु ने यह कॉल कोलकाता की राइटर्स बिल्डिंग से नई दिल्ली स्थित संचार भवन में की थी। भारत की पहली मोबाइल ऑपरेटन कंपनी मोदी टेल्स्ट्रा थी और इसकी सर्विस को मोबाइल नेट (mobile net) के नाम से जाना जाता था। पहली मोबाइल कॉल इसी नेटवर्क पर की गई थी। मोदी टेल्स्ट्रा भारत के मोदी ग्रुप और ऑस्ट्रेलिया की टेलिकॉम कंपनी टेल्स्ट्रा का जॉइंट वेंचर था। शुरुआत में एक आउटगोइंग कॉल के लिए 16 रुपये प्रति मिनट तक शुल्क लगता था।


अभी भारत में कुल आबादी में से 28 प्रतिशत लोगों के पास मोबाइल फोन है। वहीं कुल जनसंख्या के सिर्फ 25 प्रतिशत लोग ही इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं।


एक आधार पर कितने सिम ले सकते है ?

एक आधार कार्ड पर एक व्यक्ति अधिकतम 18 सिम कार्ड ले सकता है भारत सरकार ने इस पर प्रतिबन्ध लगते हुए अधिकतम सिम लेने की सिमा 9 कर दी थी उसके बाद इसे पुनः 18 कर दी है।  कई बार आपका सिम अपने आप भी बंद हो जाता है या आप किसी परिचित को अपन सिम कार्ड दे देते है और भूल जाते है तो पता नहीं चल पाता की आपके नंबर पर कितने सिम कार्ड अभी भी चल रहे है इसलिए भी आपकी जानकारी के बाहर सभी चल रहे सिम कार्ड को बंद करा देना चाहिए । 


क्या आपकी सिम से कोई फ्रॉड कर सकता है ?

बैंकिंग धोखाधड़ी और किसी को कॉल पर धमकाने के पहले भी कई मामले सामने आ चुके है। उसके बाद सरकार के निर्देश पर टेलीकॉम कंपनियों ने नए सिम जारी करने की प्रक्रिया कठिन करनी पड़ी, लेकिन आज भी कई बार हम अपने नाम पर किसी परिचित को सिम दे देते है या कभी कभी चोरी होने या सिम खो जाने से किसी गलत हाथों में पड़ने से आप मुसीबत में पड़ सकते है इसलिए आपको चाहिए की आपकी नाम पर रजिस्टरड सिम जिसकी आपको जानकारी नहीं है उसे तुरंत बंद करा दे।  


सिम को कैसे बंद कराए

आपके आधार कार्ड से लिए सिम को बंद कराना बेहद आसान है इसके लिए आपको कही जाने की जरुरत भी नहीं है बल्कि यह काम आप घर बैठे मोबाइल या कंप्यूटर से कर सकते है।


निचे दिए गए स्टाप से आप देख सकते है आपकी नाम पर कितने सिम कार्ड चल रहे है 

Step 01 सबसे पहले आपको TAFCOP की ऑफिसियल वेबसाइट https://tafcop.dgtelecom.gov.in/ पर जाना है । 

Step 02 इसमें आप अपना मोबाइल नंबर डाल कर लॉगिन कर सकते है।  लॉगिन करने के लिए आपकी मोबाइल पर एक OTP आएगा।  

Step 03 लॉगिन होने के बाद आपके सामने उन सभी सिम कार्ड के नंबर की लिस्ट आ जाएगी जो आपके आधार कार्ड से लिए गए है। 

Step 04 जिस भी मोबाइल नंबर को बंद करना है उन्हें सेलेक्ट कर "This is not my" या  "Not Required" जैसा भी हो सेलेक्ट अपना नाम डाल कर करे "Report " पर क्लिक करे।  

Step 05 अब आपके पास एक ट्रैकिंग नंबर आएगा जिसे 24 - 48 घंटे बाद डाल कर आप पता कर सकते है की आपका सिम कार्ड डीएक्टिवेट हुआ या नहीं। 


ध्यान रहे आपको उन सिम कार्ड को बंद नहीं कराना है जिन्हे आप उपयोग करते है नहीं तो एक बार सिम बंद होने के बाद आपको टेलीकॉम कंपनियों की ऑफिस के चक्कर लगाने पड़ सकते है क्योकि TAFCOP एक सरकारी पोर्टल है जिससे आपको कोई कन्फ़र्मेशन कॉल नहीं आता बल्कि आपकी रिक्वैस्ट पर आपके नंबर से रिपोर्ट की गई सिम को बंद कर दिया जाता है।


सिम कार्ड से सम्बंधित लोगो दवारा पूछे गए प्रश्न

प्रश्न: एक आधार पर अधिकतम कितने सिम ले सकते है ?

उत्तर - अधिकतम 18 सिम कार्ड


प्रश्न: एक सिम को एक से अधिक नंबर पर रजिस्टर करा सकते है?

उत्तर - नहीं सिम लेते समय एक सिम पर सिर्फ एक नंबर ही रजिस्टर करा सकते है।  


प्रश्न: क्या आधार कार्ड के बिना भी सिम ली जा सकती है ?

उत्तर - आधार कार्ड के अलावा आप कोई दूसरी आईडी से सिम तो ले सकते है लेकिन उसमे भी आपको अपना आधार कार्ड नंबर देकर बायोमेट्रिक ऑथेंटिक कराना होगा।  


प्रश्न: क्या सिम खो जाने पर कोई फ्रॉड कर सकता है ?

उत्तर - हाँ आपके खोए हुए सिम से गलत आदमी किसी भी प्रकार का फ्रॉड कर सकता है।  


प्रश्न: इ सिम कार्ड क्या है ?

उत्तर - E Sim फ़ोन में पहले से ही Installed रहती है। यानी की आप E Sim को निकाल नहीं सकते। तथा इसे आप सभी डिवाइस में नहीं लगा सकते। E Sim को टेलीकॉम कंपनी द्वारा Activate किया जाता है। और अगर कभी आप ऑपरेटर बदलते है तो आपको सिम कार्ड नहीं बदलना पड़ता है और ना ही E Sim के लिए स्मार्ट-फोन में सिम कार्ड स्लॉट की जरुरत होती है।